२४ जून – मातेश्वरी जगदंबा स्मृति दिन

Spread the love

२४ जून – मातेश्वरी जगदंबा स्मृति दिन

ब्रह्माकुमारी संस्थान की प्रथम मुख्य प्रशासिका मातेश्वरी जगदम्बा सरस्वती मम्मा का 53वां पुण्य स्मृति दिवस मनाया गया। रविवार को आयोजित कार्यक्रम में देशभर से पधारे लोगों ने श्रद्धासुमन अर्पित किए कर उनके द्वारा किए गए कार्यों को याद किया। आप कठिन योग-तपस्या से संपूर्णता की स्थिति को प्राप्त कर 24 जून 1965 को 46 वर्ष की आयु में अव्यक्त हो गईं थीं। तब से लेकर इस दिन ब्रह्माकुमारीज के देश-विदेश के सभी सेवाकेंद्रों पर विशेष योग-तपस्या के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।

प्रजापिता ब्रह्मकुमारिज ईश्वरीय विश्व विद्यालय सेवाकेंद्र सावनेर की संचालिका ब्रह्माकुमारी सुरेखा दीदी ने कहा कि मम्मा ममता और त्याग-तपस्या की साक्षात् मूरत थीं। आपका गंभीर स्वभाव और ममतमयीं गुणों ने सभी को अपना बना लिया। मम्मा रात में 2 बजे से जागकर योग-तपस्या करती थीं। आपमें योग और ईश्वरीय ज्ञान के प्रति लगन के चलते संस्था के साकार संस्थापक ब्रह्मा बाबा ने आपको इस ईश्वरीय विश्व विद्यालय की प्रथम मुख्य प्रशासिका नियुक्त किया। मम्मा ने इस जिम्मेदारी को बखूबी निभाया और उनकी ही योग-तपस्या का कमाल है जो आज ये संगठन विशाल वटवृक्ष बन गया है। आप इस रुहानी सेना की एक आदर्श, प्रेरणास्रोत कमांडर थीं। उन्होंने कहा कि मम्मा का व्यक्तित्व योग-साधना से इतना प्रभावशाली हो गया था कि जो भी उनके सामने आता था वह उनमें मां की अनुभूति करता था। इसीलिए छोटे-बड़े सभी उन्हें प्यार से मम्मा कहकर पुकारते थे। साथ ही योग के माध्यम से विश्व में शांति और सद्भावना के प्रकम्पन फैलाए। 20180624_091736